उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

अण्णा आंदोलन का जमा-खर्च


29 अगस्त के न्यू इण्डियन एक्स्प्रेस में स्वदेशी चिंतक श्री एस् गुरुमूर्ति जी का लेख छपा है। हिन्दी पाठकों की सुविधा हेतु सारांश सहित मूल लेख प्रस्तुत है।
भ्रष्टाचार के विरुद्ध भारत (India Against Corruption) नाम से इस आंदोलन का प्रारम्भ हुआ। आंदोलन की आधिकारिक वेबसाईट के अनुसार ‘‘यह आंदोलन भ्रष्टाचार के विरुद्ध जनता के सामूहिक क्रोध की अभिव्यक्ति है।’’

इसके संस्थापकों में अण्णा हजारे, बाबा रामदेव, महमूद मदनी, आर्चबिशप विंसेण्ट एम कोंसेसाओ, सईद रिजवी, न्या तेवतिया, बी आर लाल आदि बताये गए है। जनवरी 2011 से ही सारे देश में आग्रा से सिल्चर, चेन्नई तकअनेक आंदोलन के विवरण आपको साईट पर मिलेंगे। बाबा रामदेव जैसे आंदोलन के नेताओं ने भ्रष्टाचार के अलावा कालेधन जैसे मुद्दों को भी उठाया है।

पर धीरे धीरे सारा आंदोलन केवल जनलोकपाल के पारीत कराने तक सीमित हो गया और नेतृत्व भी टीम अण्णा के नाम पर 4 लोगों के हाथ सिमट गया। ये कैसे हुआ?

2009 के चुनावों के समय आड़वाणीजी ने काले धन का मूद्दा जोरदार तरिके से उठाया। यु पी ए सरकार के चुनाव जीतने के कारण यह मुद्दा 2 साल कुछ पीछे चला गया। पर जब भ्रष्टाचार के महाकाण्डों की सुनामी सी आई तब रानीतीज्ञ, उद्योगपति व अपराधी इन सब के विदेशों में छिपाये भयंकर काले धन के बारे में जनता आक्रोश सामने आया।

मिडिया ने सोनिया गांधी का काला धन विदेशी बैंकों में होने की बात कही। तब भ्रष्टाचार से लड़ने के लिये यु पी ए सरकार ने लोकपाल का शगुफा निकाला ताकि बाकी मुद्दों से ध्यान हटाया जाये। यह एक शिकारी का घात था। IAC इस चाल में फँस गया। उन्होंने सरकारी कानुन को लचर जानकर अपने विशेषज्ञों से एक जनलोकपाल बिल बनाया। कोंग्रेस को तो ये बढ़िया अवसर मिल गया। अब लड़ाई सरकारी लोकपाल व जनलोकपाल की हो गई थी।

भा ज पा ने हिमालयी भूल की जब आड़वाणी जी ने सोनिया को सामान्य शिष्टाचार के अन्तर्गत खेद जताता पत्र लिखा। मिडिया ने उसे काले धन के मुद्दे पर माफी के रुप में प्रचारित किया। भा ज पा के मूक होते ही काले धन व भ्रष्टाचार का मुद्दा बाबा रामदेव व अण्णा जैसे गैर राजनैतिक नेतृत्व के हाथ रह गया।

यह कोंग्रेसी रणनीति की जीत थी। मुद्दा गैरराजनैतिक हो गया, भा ज पा के हाथ से निकल गया। कोंग्रेसी रणनीति के अन्तर्गत ही अण्णा आंदोलन ने पूरे राजनेताओं पर ही प्रश्न लगा दिया। यह भी कोंग्रेस के लिये लाभकारी था। साम्प्रदायिकता को छोड़ अन्य किसी भी मुद्दे पर भा ज पा के साथ जोडे़ जाने में कोंग्रेस का ही लाभ होता है। पहले अनशन के दौरान नरेन्द्र मोदी की तारीफ करनेवाले अण्णा के साथियों ने अण्णा को उनके विरुद्ध घोषणा के लिये पे्ररित कर भा ज पा को आंदोलन से और दूर कर दिया।

जब अण्णा की जिद व स्वयं की भूलों से सरकार फँस गई तब फिर उन्होंने भाजपा को अपने साथ घेर लिया। विधायिका बनाम जनता का मुद्दा बनाकर भाजपा के अन्दर के संविधानवादियों को भी इस बातपर साथ ले लिया।

पर रामदेव की तरहा ही अण्णा को जिस प्रकार दबाने का सरकार ने प्रयत्न किया उससे मिडिया बिफर गया और 24 घण्टे अण्णा आंदोलन में लग गया। ‘वन्दे मातरम’ और ‘भारत माता की जय’ के नारों से पूरा देश गूँज गया। ये उद्घोष संघ के कार्यकर्ताओं को अपने लगने ही थे। और अनेक संघ के कार्यकर्ता बड़ी संख्या आंदोलन में जुड़ गये। इसी कारण भाजपा संसदीय दल की नाराजगी झेलते हुए भी नितिन गड़करी को अण्णा आंदोलन को पूर्ण सहयोग की घोषणा करनी पड़ी। इससे संसदीय दल सहित भाजपा पूरी तरहा अण्णा के साथ आ गई ओर अण्णा का पलड़ा भारी हो गया। पर फिर एक बार कोंग्रेस ने “Sense of the House” प्रस्ताव को पारित करने में भाजपा को अपने साथ जोड़ लिया। बहरहाल अण्णा टीम को और मिडिया को जीत का दावा ठोकने का अवसर मिल गया।

अण्णा आंदोलन का कुल जमाखर्च ये है। कोंग्रेस के साथ जुड़ने से भाजपा का ही नुकसान हुआ कोंग्रेस का नहीं। कोंग्रेस अण्णा पर विश्वास नहीं कर सकती अण्णा कोंग्रेस पर विश्वास नहीं करते। देश प्रतिक्षा कर रहा है कि जनलोकपाल बिल का संसद में क्या होता है? संघ प्रसन्न है कि सेक्यूलरवादियों द्वारा तिरस्कृत ‘वन्दे मातरम्’ और ‘भारत माता की जय’ इन उद्घोषों को अण्णा ने सर्वमान्य बना दिया।

http://expressbuzz.com/biography/Anna-stir-%E2%80%93-a-balance-sheet/308507.html

 

Anna stir – a balance sheet

S Gurumurthy

Last Updated : 29 Aug 2011 01:04:19 AM IST
With the ‘Sense of the House’ letter from the Speaker reaching Anna Hazare, the Anna fast has ended. And the Team Anna and the media have proclaimed victory. Now the nation is relieved from the non-stop 24×7 screams of the media. It can think now! It can now draw a balance sheet of the Anna stir to know what are its giveaways and takeaways. Now go back to where the agitation began.

What is now known as the Anna movement started as India Against Corruption (IAC), whose website says, “India Against Corruption movement is an expression of collective anger of people of India against corruption.”

The IAC website lists as founders besides Anna Hazare, Baba Ramdev, Mahamood Madani, Arcbishop Vincent M Concessao, Syed Rizvi, Justice D S Tewatia, B R Lall and others. Click the January 2011 archives of IAC website, it is full of “March against corruption” in every nook and corner of India from Agra to Chennai and Ahmedabad to Silichar.

The leaders of the IAC, particularly Baba Ramdev, had raised, besides corruption, the emotive issue of Indian black money abroad. But the IAC receded into the oblivion and the apolitical movement against corruption, got reduced to merely a fight for Jan Lok Pal (JLP) Bill. The Anna movement emerged, narrowed into just a battle for a just JLP Bill, marginalised other founders and reduced its leadership to just four, the ‘Team Anna’. See the effect of these changes.

This was how Jan Lok Pal Bill replaced black money and corruption as the core agenda of the IAC? In the Lok Sabha elections in 2009, thanks to L K Advani, the black money issue had become a huge issue; it remained dormant after the UPA victory. But after the Tsunami of corruption hit Indian politics, the public roar against black money stashed abroad by politicians, businessmen and criminals became stentorian.

The media alleged that Sonia Gandhi had huge monies stashed away abroad. It was then that the UPA II suddenly thought of a Lok Pal Bill to ride out of the tornado of corruption and black money. It was a trap. Soon IAC walked into the trap. It dismissed the government version of the Lok Pal Bill and insisted that the draft prepared by its think tank, the Jan Lok Pal Bill, should be accepted. The Congress party saw it as a blessing in disguise to make its Lok Pal Bill fight the Jan Lok Pal Bill, to keep corruption and black money out of headlines.

Meanwhile, the BJP committed a Himalayan blunder. L K Advani wrote a personal letter to Sonia Gandhi for the hurt caused to her. That was made public to make it appear that it was to regret the charges made in the BJP Task Force Report on black money that Sonia Gandhi family was keeping huge illegal funds abroad. The BJP’s move against black money became moot, leaving the issue to the apolitical Swami Ramdev, Anna being confined to JLP Bill.

The Congress, thrown on the back foot by corruption and black money issues, saw in JLP Bill an opportunity to obfuscate both. When Anna started his Jantar Mantar fast, Sonia Gandhi – charged with hoarding black wealth abroad – offered to partner him in his battle against corruption! The result, the Congress successfully divided the IAC agenda between Anna with JLP Bill issue and Baba Ramdev with black money and corruption issues.

The first fast of Anna was thus subsumed into this Sonia-led Congress strategy, leaving the BJP – thanks to its own follies – with no issues. The collateral benefit to the Congress was that Anna helped to depoliticise and rob the BJP of a highly political issue. The Congress strategy also did more damage to the BJP. It helped to club all political parties, including both the ruling party and the opposition – read the Congress and the BJP – as one and the same.

Clubbing the BJP with the Congress on issues other than secularism helps the Congress and harms the BJP. Yet the elite leaders of the BJP allowed the Congress to succeed in its strategy. So after the first fast of Anna the Congress virtually dictated the agenda. Meanwhile Team Anna got Anna, who had first praised Narendra Modi, to talk against him so as to move the Anna movement further away from the BJP. This was the setting for the second Anna fast.

But the simple Anna proved increasingly difficult. He demanded a JLP Bill that included the PM down to everyone in the net. The Congress raised the plea that Anna could not dictate to the Parliament and got the BJP into the trap again. It got the constitutionalists in the BJP to endorse its view, again clubbing the BJP with itself!

But, the Congress strategy to handle Anna like it handled Swami Ramdev failed miserably with the media, which had no other headlines, focussing on Anna 24×7. With the media screaming ‘Anna’ and ‘Anna’ all the time, the Congress was on the run. Alas the BJP also found itself running with the Congress, against Anna. But, RSS workers enthused by Anna’s cry of “Vandemataram” and “Bharat Mata ki Jai” – both branded as RSS slogans – joined the movement in large numbers forcing the BJP president Nitin Gadkari to disregard the BJP Parliamentary Party and write to Anna offering support to his demands.

This forced the BJP Parliamentary Party also to side with Anna, rationalising the shift as the “evolving” stand of the BJP! This tilted the scale in Anna’s favour. But again the Congress would not leave the BJP. It joined with the BJP in the ‘Sense of the House’ exercise. The media claimed victory for Anna and for itself.

Here is the balance sheet of the Anna movement as of date. The BJP bracketed with the Congress loses; the Congress does not. The Congress cannot take Anna for granted; Anna cannot trust the Congress. The nation waits for what the Parliament will do about JLP Bill. The RSS is pleased that the two slogans “Bharat Mata Ki Jai” and “Vandemataram” long ostracised by Secular India have been secularised by Anna.

The writer is a well-known commentator on political

and economic issues.

E-mail:comment@gurumurthy.net

अगस्त 31, 2011 Posted by | सामायिक टिपण्णी | , , , , , , , , , | 8 टिप्पणियाँ

कर्मयोग का व्यावहारिक मार्ग : विकर्म


मानव को कर्म की स्वतन्त्रता है। कहते है कि अन्य प्राणियों को यह स्वाधीनता नहीं है। उनके कर्म तय कार्यक्रम के अनुसार ही चल सकते है। इस विषय में हम केवल अनुमान ही कर सकते हैं। वह भी अपने निरीक्षण के आधार पर ही। जानवरों की भाषा का ज्ञान न होने के कारण उनके भावों को यथातथ्य जानना हमारे लिये कठीन ही है। निरीक्षण के आधार पर यह कहा जा सकता है कि प्राणियों में प्रतिक्रिया तथा क्रिया के विकल्प सीमित ही होते हैं। जैसे यदि आप किसी कुत्ते को पत्थर मारे तो वह क्या करेगा? प्रश्न का उत्तर सरल है साधारणतः 3 विकल्प सम्भव हैं। या तो काटेगा, या भौंकेगा, या भागेगा इन तीनों में से एक, दो या सभी कर सकता है किन्तु चौथा विकल्प नहीं दिखाई देता। हाँ! प्रशिक्षित करने पर कुछ और भी कर सकता है किन्तु वह भी बिलकुल तय व नियत ही होगा। क्रिया की प्रतिक्रिया तय होगी।

पर क्या मनुष्य के बारे में ऐसा कुछ भी निश्चित कह पाना सम्भव है? किसी मनुष्य को पत्थर मारने पर कितनी सम्भावनाये हो सकती हैं? सूचि बनाने से पूर्व भी हम स्वयं कई प्रश्न पूछेंगे। किसने मारा? किसको मारा? किस भाव से मारा? जिसको मारा गया उसकी उस समय क्या मनस्थिति थी? कितनी बाते होंगी जिसपर इस एक क्रिया की प्रतिक्रिया निर्भर करेगी? और फिर उसके बाद भी यह निश्चित नहीं कह सकते कि वही व्यक्ति समान परिस्थिति में एक समान ही प्रतिक्रिया हर बार देगा। बाहरी सब बातें समान होने पर भी मनुष्य का कर्म अलग हो सकता है।

यही हमारा कर्म स्वातन्त्र्य है। प्रत्येक स्थिति में मनुष्य के पास मोटे मोटे तीन विकल्प होते है। कर्म- कुछ करें, अकर्म- कुछ भी ना करें और तिसरा विकर्म- कुछ अलग प्रकार से करें। शेक्सपियर के नाटक ‘हैम्लेट’ का नायकदुविधा में कहता है – ‘करु या ना करु?’ (To do or not to do??)। हमारे पास तीन विकल्प हैं। कर्तुं – करें, अकर्तुं – न करें, अन्यथा कर्तुं – अलग तरिके से करें। ये तीसरा विकल्प एक ना होकर असीमित सम्भावनाओें को खोलने वाला है। हम यदि इस कर्मरहस्य को समझ लें तो कभी भी स्वयं को मजबुर नहीं पायेंगे। सामान्यतः हम अपनी कर्म स्वाधीनता का विचार किये बिना हमारे प्रति होनवाली क्रिया की प्रतिक्रिया दे देते है। ऐसे में हमारा जीवन पूर्व निर्धारित परिपाठी के अनुसार चलता है और कोई भी हमारी प्रतिक्रिया का अनुमान कर उसके अनुसार स्थितियों को संचालित कर हमें ठग सकता है।
जैसे यदि हमारे गुस्सा होने के कारणों का अनुमान किसी को हो जाये तो वह जब चाहे हमको गुस्सा दिला सकता है। शकुनि ने भीम की इसी कमजोरी का उपयोग कर द्यूत में परास्त किया था। जरासंध की अस्थियों से कौडिया बनवाई और हर बाजी से पहले भीम को गुस्सा दिलाया। तो कौड़िया थरथराई और कौरव जीत गये।
किन्तु यदि हम प्रत्येक स्थिति को स्वतन्त्रता से ग्रहण करते हुए उस समय के सर्वाधिक उपयुक्त विकल्प को चुनने का स्वभाव बना लेते है तब हमारी प्रतिक्रिया का पूर्वानुमान लगाना लगभग असम्भव सा हो जाता है। ऐसे स्वतन्त्र व्यक्ति का कोई कपट से लाभ नहीं उठा सकता। इतना ही नहीं हमारा कार्य भी प्रभावी हो जाता है।
यह स्वाधीनता केवल विकट परिस्थिति में अथवा शत्रु या प्रतिस्पद्र्धी के साथ व्यवहार में ही उपयोगी नहीं है तो अपनों के साथ प्रेमपूर्ण व्यवहार में भी इस स्वतन्त्रता का सही प्रयोग करना आवश्यक है। अधिकतर माताओं को यह शिकायत होती है कि उनके बच्चें उनका कहना नहीं मानते। इसका कारण ही यह है कि हमने अपनी कर्म करने की स्वतन्त्रता को खो दिया है और केवल प्रतिक्रिया के रूप में ही कार्य करते है। जब हम सीमित प्रतिक्रियाओ में स्वयं को बांध लेते है तब फिर जो हम चाहते है वैसा परिणाम नहीं मिलता। यदि हमारा डाँटना एक स्वतन्त्रता से चयनित विकल्प होने के स्थान पर क्रोध से नियन्त्रित प्रतिक्रिया है तो उसका असर होना असम्भव है। कई बार पूरा दूर्लक्षित करना अधिक प्रभावी हो सकता है। जब बच्चा डाँट की अपेक्षा कर रहा हो तब माँ यदि अपने क्रोध का प्रगटन प्रतिक्रिया के स्थान पर मौन से करती है तो वह अधिक प्रभावी हो सकता है। पर हर समय ऐसे अकर्म से ही काम चलेगा ऐसा भी नहीं है। कभी डाँटने का कर्म कभी मौन का अकर्म तो कभी किसी अन्य प्रकार से गलती का बोध कराने का विकर्म। यह तीनों का समुचित प्रयोग हमें सदैव प्रभावी रख सकता है। केवल क्रोध ही नहीं स्नेह, प्रेम के व्यवहार में भी इन तीनों का विवेकपूर्ण उपयोग आपके सम्बन्धों को सतत नवीन ऊर्जा  प्रदान करता रहेगा।

गीता में भगवान कृष्ण बताते है

कर्मणि एव बोधव्यम् बोधव्यम् विकर्मणः।
अकर्मणश्च बोधव्यम् गहना कर्मर्णो गतिः।।

कर्म, विकर्म और अकर्म तीनों को जानना होगा। अर्थात तीनों पर पूण स्वामीत्व प्राप्त करना होगां क्योंकि कर्म की गति, अर्थात दिशा एवं चाल गूढ़ है। रहस्यमय है क्योंकि पूर्वानुमान सम्भव नहीं है। इसलिये तीनों का प्रयोग करने में कुशलता लानी होगी। राह में कोई नोट पड़ा मिला। क्या करेंगे? सामान्य स्तर की चेतना से कर्म या अकर्म का विकल्प होगा। उठायेंगे या नहीं उठायेंगे। जिस प्रकार का संस्कार अथवा प्रशिक्षण मिला हो उस प्रकार की प्रतिक्रिया होगी। किन्तु विकर्म के लिये चेतना के अलग स्तर पर जाकर कार्य करना होगा। लोभ के वशीभूत होकर स्वयं के लिये उस नोट को उठायेंगे भी नहीं किन्तु नोट दिख जाने के बाद दूसरे को ललचाने के लिये वैसे ही छोड़ देंगे तो वह भी गलत है। यदि ऐसी चेतना पर मन कार्य करने लगे। तब फिर अपनी सर्जकता का प्रयोग करना पड़ेगा। ऐसा विकल्प तैयार करना होगा जिसमें लोभवश स्वयं के अधिकार के बिना लाभ लेने का अधर्म भी ना करना पड़े और देखकर अनदेखा करने का निष्क्रियता दोष भी ना लगे। अपनी अपनी सर्जकता के अनुसार अनेक विकल्प सामने आयेंगे। कोई उठाकर मन्दिर की हुण्डी में चढ़ा देगा। या किसी अच्छे कार्य के लिये समर्पण के रूप में दे देगा। कोई अपने प्रयास से उसके सही स्वामी को खोजकर उसे लौटाने का यत्न करेगा। कोई पास के ही किसी भूखे, प्यासे को भोजन कराने में उसको काम में ले लेगा। देखा विकर्म ने कितने विकल्प खोल दिये। यह सूचि कभी समाप्त नहीं हो सकती। जितने लोग उतनी नवनवीन विकल्प। यही नहीं एक के पास भी अनेक विकल्प। कहते है मानव एक क्षण में किसी भी कार्य को करने के 9 विभिन्न विकल्प सोच सकता है। इसे ही नवनवोन्मेषी प्रतिभा कहते है। नये नौ विकल्प क्षणार्द्ध में सोच सकने की प्रतिभा। हम में से प्रत्येक के पास यह प्रतिभा है। पर हम उसका प्रयोग नहीं करते इस कारण बुद्धि की यह क्षमता कुन्द हो जाती है और हम भी पशुवत् पूर्व निर्धारित प्रतिक्रियाओं के सीमित विश्व में सीमट जाते है।
विकर्म हमें वास्त्विक रूप में स्वतन्त्र कर देता है। भेड़चाल, उबाउ कार्यों, बासी सम्बन्धों से बचाता है। जीवन का प्रत्येक क्षण नयापन लेकर आता है। प्रत्येक परिस्थिति एक नवीन अवसर परोसती है। और मन इस चुनौति को नयेपन से स्वीकार कर अपनी चेतना के स्तर को और अधिक उठाकर सोचने लगता है। यही सतत प्रगति का मार्ग है। कोई चुनौति ऐसे कर्मयोगी को विचलित नहीं करती।
इसे अपने जीवन में कैसे लाये? प्रारम्भ तो अपनी स्वाधीनता को स्वीकार करने से होगा। यह समझना होगा कि हम अपने कार्यों को कुछ सीमित प्रकार से करने या ना करने के लिये बन्धे नहीं है। स्वयं को यह स्मरण सतत कराते रहना होता है। हमारा मन स्वभावतः नीचे की ओर गति करता है और पशुचेतना की ओर बार बार पतन करता है। अतः एक बार यह समझ लेने से ही काम नहीं होगा अपितु बार बार इस स्वतन्त्रता का स्मरण करना होगा। दूसरा चरण है – निर्णय लेते समय सदा एकाधिक विकल्पों पर विचार करना। सामान्यतः हम बिना बहुत अधिक विचार किये ही निर्णय ले लेते है। सीधे सामने दिख रहे सबसे सरल, लाभकारी विकल्प को स्वीकार कर लेते है। यह निर्णय की प्रक्रिया बहुदा अवचेतन में ही बहुत अधिक प्रगट चिन्तन के बिना हो जाती है। प्रतिदिन सुबह जग जाने के बाद भी उठे या ना उठे? ऐसे शुल्लक निर्णय से प्रारम्भ कर अपने जीवन में क्या जीवनध्येय के लिये कार्य करें? यहाँ तक सारे निर्णय हम सहज, सुलभ, सरल विकल्पों को चुनकर बिना बहुत अधिक विचार किये ले लेते है। अपनी इस आदत से ही हम स्वयं को अपने ही मन के पिंजरे में कैद कर लेते है। हमारी अपनी ही धारणायें बना लेते है कि हम यह नहीं कर सकते। इससे अधिक नहीं कर सकते। स्वयं ही स्वयं की क्षमता को सीमित कर लेते है। इससे स्वाधीनता विकर्म देता है। हर निर्णय के समय सामने दिखने वाले प्रत्यक्ष विकल्प के अलावा भी कुछ विकल्पों पर विचार करना यह हमारी आदत बन जाये। फिर भले ही अंत में हम वहीं करें जो विकल्प पहले से सामने दिख रहा था। पर अब हम स्वतन्त्रता ये उस कर्म को कर रहे है। अब यह हमारा चुनाव है न कि मजबुरी। विकल्पों का चिंतन हमारी मजबुरी को स्वतन्त्रता में बदल देता है। अनहोनी कि स्थिति में यदि स्थपित विकल्प असम्भव भी हो जाये तब भी उचित परिणाम पाने के अन्य विकल्प हमारे लिये उपलब्ध रहते है।
तीसरा उपाय है – प्रतिक्रिया के स्थान पर पुरोक्रिया। (Proaction in place of Reaction) किसी भी परिस्थिति में प्रतिक्रिया के विकल्प सीमित ही होते है। सामान्यतः करें या ना करें ऐसे दो विकल्प ही दिखाई देते है, कर्म और अकर्म। प्रतिक्रिया का स्वभाव होता है जल्दबाजी। प्रतिक्रिया शीघ्र कर्म मांगती है और यह जल्दबाजी हमें सम्मूख सीमित विकल्पों में से एक का चयन करने के लिये मजबूर करती है। अतः समझदार कर्ता या स्वतन्त्र कर्ता प्रतिक्रिया की जल्दबाजी में नहीं पड़ता। क्षणभर विराम (Pause) लेता है और विकर्म पर चिन्तन करता है। इस छोटे से विराम से बड़ा अंतर होता है। मजबूरी समाप्त हो जाती है और स्वतन्त्रता अनेक नये दरवाजे खोलती है। यह स्वयं कर्म करना है किसी और क्रिया की मात्र प्रतिक्रिया नहीं। यह एक तरहा से आगे बढ़कर कर्म करने जैसा है। अतः हम इसे पूरोक्रिया कहेंगे। विराम के कारण मिली स्वतन्त्रता से हम अपने चित्त के स्तर को उपर उठा लेते है और आगे की क्रिया करते है। यह पुरोक्रिया निश्चित ही अधिक प्रभावी होती है।
कलात्मक अभिव्यक्ति का अभ्यास भी विकर्म को जीवन में उतारने का आनन्ददायी उपाय है। हम में से प्रत्येक में किेसी ना किसी कला के प्रति अभिरूचि होती है। कला की साधना हमें अपनी चेतना को सर्जकता का अवसर देती है। कला का एक और परिणाम है मौलिकता। बचपन से ही सीखने के लिये हम अनुसरण का आधार लेते है क्योंकि वह सबसे सहज विधि लगती है। अभिभावक भी इसी को बढ़ावा देते हैं। अतः बचपन से ही नये प्रयोगों को दबाया जाता है। मौलिकता सुरक्षा की बलि हो जाती है। बालक तो ऊर्जा  की अधिकता के कारण नये नये प्रयोग करना चाहता है पर इसमे उसको क्षति होने की सम्भावना भी होती है। अतः इसे रोका जाता है। यह विकर्म की विशेषता है। अलग ढ़ंग से करने के कारण परिणाम भी पूर्वनियोजित नहीं होते। विकर्म मौलिकता का पोषण करना है। अनुकरण के स्थान पर स्वयं के अन्दर से मौलिक विकल्प ढ़ूंढ़ने की आदत भी विकर्म को बढ़ावा देगी।
कर्मयोग को व्यवहार में उतारने का माध्यम है विकर्म का अभ्यास। पर याद रहे भगवान कृष्ण कर्म, अकर्म और विकर्म तीनों को जानने की बात कर रहे है। अतः बलात् कुछ अलग करने की आवश्यकता नहीं है। जहाँ विकल्पों पर सोचने के बाद भी कर्म अथवा अकर्म ही उचित प्रतीत होता है तब उसका चयन करने का साहस भी आवश्यक है| सफलता चयन के विकल्प पर निर्भर करती है। प्रेय के स्थान पर श्रेय को जानना और उस मार्ग का चयन करना। यह विवेक धर्म के मर्म को पहचानने से आता है। इसे योग की अगली व्याख्या में समझेंगे।

अगस्त 30, 2011 Posted by | योग | 12 टिप्पणियाँ

अन्नागिरी कही फिर गांधीगिरी ही न बन जाये??


अन्ना के अनशन का ८ व दिन है| सरकार कि संवेदनहीनता और मीडिया के जोरदार प्रसारण ने आन्दोलन को जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है| इससे अधिक बड़े आन्दोलन तो केवल रामजन्मभूमि और जे पि की समग्र क्रांति ही थे| उनमे इससे अधिक लोग सड़कों पर उतारे थे| पर एक अंतर है वो दोनों आन्दोलन संगठित प्रयास का परिणाम थे| आज के आन्दोलन में लोगों का गुस्सा फुट रहा है| ये अधिक स्वयं स्फूर्त है| इसी कारण मीडिया भी TRP की दौड़ में लग गया है| पर जागरण जोरदार हुआ है| यह बड़ा ही महत्वपूर्ण पहलू है| जो सबसे ऊपर है| इसका श्री जितना अन्ना को है उतना ही सरकार की मुर्खता को भी है|
अनेक साथी प्रश्न पूछ रहे है | सोचा की एकसाथ उत्तर देकर लिख दिया जाये|
आन्दोलन के तप्त वातावरण में भी वैचारिक चिंतन जरुरी है क्योंकि राष्ट्रहित सर्वोपरि है|
१)कांग्रेस आखिर जन लोकप्र बिल पास से क्यों दर रही है???
जन लोकपाल बिल तो कोई पार्टी जैसे के तैसे पास नहीं करेगी| अन्ना जैसे चाहते है वैसा लोकपाल बन जाये तो सारा काम ही ठप्प हो जायेगा| केवल भ्रष्टाचार ही नहीं सारा सरकारी काम ही ठप्प होगा| कोई भी अधिकारी कुछ भी नहीं करेगा | काम भी नहीं भ्रष्टाचार भी नहीं| अन्ना का आन्दोलन वाकई बढ़िया है| उसका कोई विरोध नहीं है| पर
उनकी मांग थोड़ी अधिक कठोर है| पर ये आन्दोलन की जरुरत है| एक तो ठोस मांग होना आवश्यक है| यहीं बाबा की गफलत हो गयी थी| दूसरा मांग कठोर होंगी तो बातचीत में कुछ ठीक ठाक बात पर सफलता मिल जाएगी| अतः उनके स्तर पर ये ठीक है पर जो लोग पूछते है की कांग्रेस नहीं तो BJP ही इस बिल को support कर दे वो इसकी बारीकी को नहीं समझते| अभी वर्त्तमान में भी जो इमानदार लोग है वो आरोपों के दर से काम नहीं कर रहे| सोचते मेरे retire होने तक टांग देता हूँ इस file को | इस रवैये के कारण सेना को आवश्यक हथियार नहीं मिल पा रहे| और जिसमे भ्रष्ट लोगों का हित जुड़ा है ऐसे निर्णय हो रहे है| सबसे महंगे इटालियन हलिकोप्टर हमने इसी साल ख़रीदे| सही परिवार को हिस्सा मिल गया निर्णय हो गया| अन्ना के लोकपाल के बाद तो और स्थानों पर भी इमानदार लोग निर्णय लेने से डरेंगे|
वैसे भी कानून से तो भ्रष्टाचार बढ़ता है| कानून घटाने से भ्रष्टाचार घटेगा| डिमांड क़ानूनी हस्तक्षेप कम करने की होनी चाहिए| एक और नया कानून ये समाधान नहीं है| CVC के समय यही तर्क दिए थे कि ७०% भ्रष्टाचार कम होगा| क्या हुआ?? RTI के समय के अन्ना के विडियो दिखाए जा सकते है| उनके अनुसार इस कानून से पूरी पारदर्शिता आ जाएगी| क्या हुआ? आज इस का सबसे ज्यादा दुरूपयोग अधिकारी एक दुसरे से बदला लेने में और उद्योगपति अधिकारीयों को ब्लैक मेल करने के लिए कर रहे है| लोकपाल का भी ऐसे हो सकता है| दहेज़ और हरिजन कानून का भी यही हाल है|
२) कोई राजनीतिक पार्टी अपनी छबि स्वयं ख़राब करेगी ???
उनको लग रहा है की उनके साथ BJP की भी छवि ख़राब हो रही है तो फिर कोई ज्यादा नुकसान नहीं| भ्रष्टाचार चुनावी मुद्दा नहीं है|
३) क्या कांग्रेस की छबि (सोनिया सहित सभी मंत्रियों की )ख़राब नहीं हुई ??
यदि अन्ना के सामने झुक जायेंगे तो रही सही भी ख़राब हो जाएगी| इसलिए तो राहुल कार्ड खेला है| राहुल की छवि चमकने के लिए ही सही मान जाये कोंग्रेस! पर ये देश के लिए ठीक नहीं होगा|
४) क्या राहुल गाँधी की इस आन्दोलन से साख कमनही हुई??
उसकी कोई साख नहीं है| सब विज्ञापन जैसे बने है तो वो तो अं चुनाव के वक्त पर फिर बना लेंगे Media manage करके|
५)क्या आम जनता मै भ्रस्टाचार के खिलाफ जागरूकता पैदा नहीं हुई ???
ये ही एकमात्र फायदा इस आन्दोलन से हुआ है| १ जनता जागरूक हुई और सडकों पर आई| और २. उसमे विश्वास पैदा हुआ कि भ्रष्टाचार दूर हो सकता है| अन्ना और बाबा कि ये बहुत बड़ी सफलता है| अब राजनैतिक पार्टियों को एक ठोस agenda प्रस्तुत करना चाहिए भ्रष्टाचार के खात्मे का|
६) क्या अन्ना की तुलना किसी भ्रस्टाचारी से करना सही है ??
बिलकुल गलत है| अन्ना बाकि कुछ भी हो सकते है पर भ्रष्टाचारी नहीं है| वो एक इमानदार व्यक्ति है| कुछ गलत लोगों से घिरे है| समझौता कर लेते है| जैसे भारतमाता, स्वामी विवेकानंद, सुभाष और भगतसिंह के फोटो हटाकर केवल गांधीजी का रखना| ये समझौता है| फिर बुखारी पर टीका करने कि जगह उसको समझाने अपने लोगों को भेजना | ये वही गलतियाँ है जो गाँधी बाबा ने भी कि थी|

आज देश जग गया है किन्तु आन्दोलन ही समाधान नहीं हो सकता| यदि बातचीत होकर कुछ बाते मन ले सरकार तो क्या उससे व्यवस्था परिवर्तन आ जायेगा? आखिर इन राजनैतिक प्रश्नों का राजनैतिक हल जरुरी है| केवल एक कानून से बात नहीं बनेगी| पुरे संविधानिक ढांचे पर ही चर्चा करनी होगी| एक नै स्कृति के लिखने का समय आ गया है| क्या अन्ना या बाबा चाणक्य बन सूत्र लिखने को तत्पर है? नहीं तो फिर किसी न किसी को तो इस भूमिका में आना होगा| गाँधी बाबा भी यही रुक गए अंग्रेजों को तो भगा दिया पर अपने संविधान “हिंद स्वराज” को लागु नहीं करवा पाए| पटेल के स्थान पर नेहरु को देश पर थोप दिया अपनी जिद से और देश में अपना स्व नहीं आ पाया तंत्र में?? अग्निवेश और भूषण को साथ लेकर अन्ना फिर वही गलती तो नहीं दोहरा रहे| अब तो विनायक सेन और मेधा पाटकर जैसे बचे खुचे भी आ गए| बस अरुंधती ही विरोध में है| भगवन ने कृपा की| नहीं तो गिलानी भी रामलीला में नमाज पढ़ते दिखता|

अन्ना आप पर जनता को विश्वास है भारत माता को विश्वास है| कह तो रहे है आप आज़ादी की नै लड़ाई बना भी देना और पुरानी भूलों से बचके रहना… नहीं तो ये सारी शक्ति भी गांधीगिरी ही बनी रह जाएगी!!


अगस्त 23, 2011 Posted by | सामायिक टिपण्णी | , , , , , | 4 टिप्पणियाँ

कर्षयति इति कृष्णः!


पूर्णावतार है श्रीकृष्ण! जिनके चरित्र में हम मानव जीवन की सभी कलाओं का पूर्ण विकास देखते है। ‘कला’ इस संस्कृत पद के दो अर्थ है- एक तो अभिव्यक्ति की सृजनात्मक विधा को हम कला कहते है। जीवन के सभी कार्यों को ही कलात्मकता से करने की अपेक्षा होने के कारण हम शास्त्रों में 64 कलाओं का उल्लेख पाते है। भोजन के लिये पाक कला तथा वस्त्रादि के लिये कढ़ाई, बुनाई व घर बनाने के लिये वास्तुशास्त्र जैसे मानव जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं से लेकर साधना की सूक्ष्मतम अभिव्यक्ति के क्षेत्र संगीत, नृत्य, शिल्प आदि तक सभी में कलात्मकता को स्थान हिन्दू जीवनपद्धति ने प्रदान किया। इन 64 कलाओं में सृजन को प्रेरित करने के साथ ही प्रशिक्षण की भी व्यवस्था हमने की थी। भगवान् श्रीकृष्ण ने इन सब कलाओं में पूर्णता का अविष्कार किया।
‘कला’ का दूसरा अर्थ है आयाम, पहलू या हिस्सा। जैसे चन्द्रमा की 14 कलायें होती है। जब केवल कुछ अंश में जो प्रगट होता है उसे कला कहते है। हिन्दू संस्कृति की विशेषता है कि हम किसी को भी तुच्छ, घृणित अथवा पूर्णतः अनुपयोगी नहीं समझते। क्योंकि पूर्णता की कुछ कलायें तो उनमें प्रगट होती ही है। भगवान श्रीकृष्ण के जीवन में हम इन कलाओं को भी पूर्णता प्राप्त करते हुए पाते है। इस बात को कृष्ण की बाल लीलाओं से ही हम समझ सकते है। बाल्यकाल में सबसे पहला कार्य गायों को वन में ले जाने का है। वहाँ उनके साथ हर स्तर के गोपबाल जोते है। सब अपनी अपनी आर्थिक स्थिति के अनुसार दोपहर की न्याहारी लाते है। बालकृष्ण का तन्त्र बड़ा सहज है। भोजन करते समय खेल खेल में सबकी न्याहारी को मिलाकर स्वयं अपने हाथों से सबको खिलाकर सहज ही उच-नीच का भेद मिटा समरसता को जगा देते है। मटकी फोड़, माखन चोर का खेल भी केवल नटखट लीला नही है। वह भी एक बड़ी क्रांति का सहज सुत्रपात है। यह नन्दग्राम व गोकुल के परिश्रम से उत्पन्न दूघ-दहि को कंस के राक्षसों के पोषण के लिये जाने से रोकने का सहज तरिका है। सबसे पहला स्वदेशी आंदोलन।
पुतना, शकटासुर तथा बकासुर जैसे असूरों का नाश व नृत्य कर लीलया कालिया मर्दन से कई दशकों से पीड़ित और शोषित लोगों के मध्य आत्मविश्वास आत्मबल को पैदा किया। इसी आत्मबल के बल पर इन्द्रपूजा के स्थान पर संगठित प्रयासों से गोवर्द्धन पूजा के माध्यम से पर्यावरण रक्षा का महत्वपूर्ण संदेश भी कृष्ण ने बाललीला में ही दिया। कृष्ण बचपन से ही एक क्रांतिकारी है। उनके समय की सब प्रकार की समस्याओं के लिये तो उन्होंने समाधान प्रस्तुत किये। साथ ही वर्तमान समय की समस्त समस्याओं के लिये भी कृष्ण का जीवन आदर्श प्रस्तुत करता है।
शारीरिक वासना से परे आत्मरस से रंगी रासक्रीड़ा के माध्यम से समाज में प्रेम के दैवी स्वरूप की प्रतिष्ठा उन्होंने की। गोपियों के जीवन में जिस आध्यात्मिक जागरण को उन्होने पे्ररित किया उसका स्पष्ट चित्रण हमें गोपियों के उद्धव के साथ संवाद में मिलता है। जब द्वारिका से उद्धव गोपियों को कृष्ण से मिलने के लिये ले जाने वृन्दावन आते हैं तो गोपियाँ जाने को तैयार नहीं होती। वो कहती है हमारे कृष्ण तो हमारे साथ है। हमारे भीतर है, हमें उनसे मिलने कही और जाने की जरुरत ही नहीं है। उद्धव जो स्वयं श्रीकृष्ण से वेदान्त की शिक्षा पा रहे है, गोपियों को अद्वैत का साक्षात मूर्तिमंत स्वरुप पाते है और दैवी प्रेम की आध्यात्मिक उदात्तता को वृन्दावन में अनुभव करते है।
दिखने में सुकोमल नन्दलला बल में भी कम नहीं है। अपने शारीरिक बल, चापल्य और कौशल से कुवलियापीड़, चाणुर व कंस का वध कर असुर शक्ति का निर्दालन वे किशोरावस्था में ही करते है। विजय के बाद भी स्वयं का महत्व नकारते हुए कंस के पिता उग्रसेन को राज्याभिषेक करते है। कंसवध से उत्तेजित जरासंध को 17 बार पराजित कर भगाने के बाद भी उसके बार बार आक्रमण से होनेवाली असुविधा से मथुरा को बचाने के लिये स्वयं रणछोड़दास का दूषण स्वीकार कर गुजरात की ओर प्रस्थान करते है। कालयवन नामक राक्षस के निःपात के समय भी स्वयं श्रेय लेने के स्थान पर सदियों से साधना में लीन ऋषि मुचकुन्द के तपोज्वाला में उसे भस्म कराते है। इस ऋषि को भी समाजोन्मुख योगदान के व्यावहारिक आध्यात्म की ओर प्रेरित कर उनका शिष्यत्व ग्रहण करने की तत्परता दिखाते है। इससे बड़ा अनहंवादी जीवन क्या होगा?
द्वारिका की रचना भी अपने आप में अद्वितीय है। यह हिन्दू अर्थशास्त्र का व्यावहारिक प्रादर्श प्रस्तुत करने का कार्य है। हिन्दू जीवनपद्धति के सिद्धान्तों को जब व्यवस्था में व्यवहार में लाया जाता है तो कैसे विकेन्द्रित अर्थव्यवस्था से सबके उत्पादन को बढ़ा पूरे जनजीवन को ही स्वर्णीम संरचना प्राप्त होती है इसका यह जिवन्त उदाहरण है। यह नव रचना का अभिनव प्रयोग कृष्ण और बलराम के हल ने द्वारिका में कर दिखाया? वास्तव में उस व्यवस्था के सिद्धांतो का गहन अध्ययन आज के सन्दर्भ में भी प्रासंगिक होगा।
श्रीकृष्ण का सारा जीवन धर्म की संस्थापना का जीवन है। आवश्यकता पड़ने पर सदियों से चल रही गलत परम्परा तोड़ नई परिपाठियों की रचना, कभी हिंसा का बल से दमन, कभी आवश्यक मन्त्रणा प्रदान करना, युद्धभूमि में भ्रमित पार्थ को गीता के उपदेश में शास्त्रों का सार प्रस्तुत करने के साथ ही योग-वेदान्त को नवीन व्यावहारिक अर्थ पदान कर पूरी मानवता को ही उपकृत करना ये सब धर्मसंस्थापना के ही विभिन्न माध्यम है। इन सबकी प्रासंगिकता कृष्ण के अवतरण के 5113 वर्षों बाद आज भी उतनी ही कायम है।
कृष्ण का शाब्दिक अर्थ है – जो आकर्षित करता है। कर्षयति इति कृष्णः! यह आकर्षण बाह्य नहीं आत्मिक है। यही इसकी चिरंतनता का रहस्य है। आज भी प्रत्येक मानव को अपनी उन्नती के लिये कृष्णलीला में मार्ग मिलता है अतः आज भी कृष्ण आकर्षण का उतना ही बड़ा केन्द्र बनें है। सारे विश्व में उनके प्रशंसक हैं।
आइये! इस जन्माष्टमि पर हम भी अधर्म, असुर विनाश व धर्मरक्षा के लिये संकल्पबद्ध हो!!

अगस्त 18, 2011 Posted by | चरित्र, सामायिक टिपण्णी | 10 टिप्पणियाँ

धर्म रक्षा का पर्व : रक्षाबंधन


श्रावण की इस पुर्णिमा पर रक्षा पर्व की कोटी कोटी शुभकामनायें! वर्षा ऋतु उत्सवों का समय है। लगभग हर दिन का इतिहास है, हर दिन का कोई ना कोई व्रत। वर्षा का समय अंकुरण का समय है। जो बोया है वो बीज तो अंकुरित होगा ही पर प्रेम का गीलापन पाकर बिन बोया, दुर्लक्षित पड़ा, ऐसे ही फेंक दिया, ग्रीष्म की तपन में झुलसा हर बीज भी अपने आप इस ऋतु में अंकुरित हो जाता है। वातावरण में सृजन भरा है। ऐसे में सत्संकल्पों के बीज बोने का भी अवसर है। उत्सव इसीलिये मनाये जाते है।
जिसमें उत्स भरा हो वो उत्सव! अर्थात जो मन को ऊपर की आर ले जाये। अपने मन को लक्ष्य की ओर अग्रेसर करने के लिये अतिरिक्त ऊर्जा प्रदान करना उत्सवों का लक्ष्य है। नित्य साधना की पुष्टि में यह नैमित्तिक साधना है। हमारे रोज के संकल्प को दृढ़ करने के लिये विशेष संकल्प उत्सवों पर लेना है। उत्सवों के समय सारी सृष्टि ही आपके संकल्प का समर्थन कर रही होती है। ग्रह नक्षत्रों के परस्पर गुरुत्व के सम्बंध एक अपरिमित बल को सकारात्मक दिशा दे रहे होते है। इन ग्रहदशाओं की अनुकुलता का मन के उत्साहवर्द्धन में हो रहा योगदान केवल हर्ष और उल्हास में बीता देने के लिये नहीं है। उत्सव सामूहिक मन को भी केन्द्रित करने का कार्य करते है। पूरा समाज ही एक समान उत्साह के वातावरण में एकसमान संकल्प को धारण करता है। यह परस्पर पूरक शक्ति भी शिवसंकल्प की पूर्ति को निश्चित करती है।
हिन्दू जीवन पद्धति व्यक्तिमूलक होते हुए भी व्यक्तिकेन्द्रित ना होकर समाजाभिमुख है। इसी कारण हमारे पर्व, उत्सव व परम्परायें भी सामूहिक हैं। इन पर्वोंपर लिये जानेवाले संकल्प, किये जानेवाले व्रत, पूजन स्वयं के लिये ना होकर समष्टि के कल्याण के लिये होते है। रक्षाबन्धन के दिन भी संकल्प इसी सामूहिक लक्ष्य की प्राप्ति के लिये लेना है। संस्कारों की रक्षा, संस्कृति की रक्षा, धर्म की रक्षा अर्थात राष्ट्र की रक्षा। भारत विश्व का एकमात्र ऐसा राष्ट्र जिसकी सोच केवल स्वयं के कल्याण तक सीमित ना होकर जो प्रतिदिन अपनी पूजा मे विश्व मानवता की ही नहीं अपितु पूरे ब्रह्माण्ड मे व्याप्त चराचर के मंगल की प्रार्थना करता है। इसलिये इसकी रक्षा में ही पूरे विश्व की, मानवमात्र की, प्राणीमात्र की, पर्यावरण-प्रकृति की और सारी सृष्टि की रक्षा निहीत है। अतः आइये! इस रक्षाबन्धन के पर्व पर राष्ट्र रक्षा का संकल्प करें।
सभी एक दूसरे को रक्षासुत्र में बांधे और सामूहिक संकल्प को शक्ति प्रदान करें। हाँ सभी ! केवल बहनें भाइयों को नहीं। बहन भाई से रक्षा की अपेक्षा करते हुए उसे रक्षासूत्र बांधे यह तो मध्यकाल की असुरक्षा में विकसित उत्सव का केवल एक पहलु मात्र है। अनादिकाल से रक्षासूत्र का बन्धन एक संकल्प के रूप में होता आया है। यज्ञ के समय सब लोग एक ही संकल्प में मन को पिरोये इसलिये रक्षासूत्र बाँधा जाता है। आज का त्योहार उसी का वार्षिक संस्मरण है। आज जब हम स्वतन्त्र है और नारी अबला नहीं अपितु जीवन के हर क्षेत्र में पुरुष के समकक्ष पूरक भूमिका में सन्नध है तब इस उत्सव का सनातन स्वरूप पुनः प्रस्थापित होता जा रहा है। केवल बहन भाई को नहीं सब एकदूसरे को राखी बाँधने लगे है।
बहनों! के बोले माँ तुमि अबले? बहुबल धारीणि, नमामि तारीणिं! रिपुदलवारीणिं ! मातरम्!! आप तो साक्षात शक्ति स्वरुपा है। आप को संरक्षण की कहाँ आवश्यकता? आप सिंहों में जागरण भर दें आज के दिन कि वे असुरों का नाश कर सकें। और अपने दायित्व को भूल कोई पुरुष भैसा हो जाये, महिष हो जाये तो हे जगदम्बे तुझमें वह भी शक्ति है कि उसका मर्दन कर सकें। तुम इस भारत की युवा शक्ति को आज जाग्रत कर शक्ति दों! बाँधो इस चिरपुरातन नित्य जीवित संस्कृति की रक्षा का कवच सूत्र!
समाज को समरस करने का भी यह अद्भुत अवसर है। आज ही नहीं आज से लेकर अगला पूरा पक्ष, पखवाड़ा, अगले पन्द्रह दिन समारोहपूर्वक समाज में रक्षाबन्धन मनाया जायेगा। कुछ सामाजिक संगठन प्रयत्नपूर्वक विशेषकर हमारे समाज के उन लोगों तक अवश्य जायेंगे जो अपने आप को कटा, वंचित व पीड़ित मानते है। उनके साथ समरसता व बन्धुत्व को पिरोने का यह अवसर है। हिमालय के लोगों ने वृक्षों की रक्षा के लिये उन्हें रक्षासूत्र बाँधा। अरुणाचल में जनजातियाँ अपने सत्व की रक्षा के लिये एकदूसरे को राखी बाँधते है।


इस पर्व के अवसर पर हम सब भी आपस में रक्षासूत्र में बंधें! एक संकल्प के सूत्र में! हमारी यह चिरपुरातन भारती को पुनः जगत् गुरु के रुप में प्रस्थापित कर विश्वशांति का सुत्रपात करने का संकल्प! इस सर्वसमावेशक विचार में बाधक हर व्यक्ति, विचार अथवा संगठित प्रयास को सामूहिक शत्रु मानकर उसके निःपात का संकल्प! क्योंकि रक्षा केवल आक्रमण के प्रत्युत्तर में ही नहीं, शत्रु को हतबल कर आक्रमणमें अक्षम बनाने में अधिक है। चाणक्य का आदर्श है कि बिना युद्ध के शत्रु का संहार करना ही सबसे बड़ी विजय है। आज हम बौद्धिक स्तर पर विश्व के सर्वशक्तिमान राष्ट्र के रुप में उभर चुके है। आर्थिक रुप से भी हम सक्षम है। सामरिक बल में और अधिक पूष्टि की आवश्यकता है। पर सर्वाधिक आवश्यक है चरित्र का आत्मबल! यह बल हमारी आध्यात्मिक ऊर्जा ही दे सकती है। आज राष्ट्र के प्रबुद्ध नेतृत्व में यह आध्यात्मिक, सांस्कृतिक जागरण अत्यधिक आवश्यक हो गया है। यही इस वर्ष के रक्षाबन्धन का सामूहिक संकल्प हो! सब ओर यह सत्य गुंजायमान कर दें — सनातन संस्कृति की रक्षा में ही इस राष्ट्र का उत्कर्ष निहित है!

अगस्त 13, 2011 Posted by | Uncategorized | 3 टिप्पणियाँ

हुतात्माओं का स्वप्न


स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां सब ओर चल रही है| एक सप्ताह ही तो बचा है| शिक्षक लगे होंगे, छात्र भी उत्साह से गीत, नाटक तैयार कर रहे होंगे| पर संवेदनशील देशभक्त सोच रहा है क्या ६४ वर्षों बाद भी हम हुतात्माओं के स्वप्नों को पूरा कर पाए है? हंसते हंसते जिन्होंने अपना यौवन मातृभूमि पर अर्पण कर दिया| क्या सोचा होगा फांसी के तख़्त पर खड़े होकर वन्दे मातरम का जयघोष करते हुए? मेरी मातृभूमि जब स्वतंत्र होगी तब ना केवल अपने प्रत्येक सपूत के जीवन को सुखमय और धन्य कर देगी अपितु पुरे विश्व को ही जीने की राह दिखाएगी| अरे यही तो है ना इस राष्ट्र का जीवन -ध्येय ?

क्षमा करें उत्सव के समय ऐसी बातें करने के लिए| ७ दिन पहले लिखा है ताकि सोचकर संकल्प ले उत्सव के दिन…

बड़ा पुराना गीत है ५० के दशक का है| आज फिर facebook पर दिख गया तो सोचा सबके साथ बांटा जाये| बड़े मार्मिक प्रश्न उठायें है कवी ने…

उगा सूर्य कैसा कहो मुक्ति का ये
उजाला करोड़ों घरों में न पहुँचा।
खुला पिंजरा है मगर रक्त अब भी
थके पंछियों के परों में न पहुँचा॥

न संयम-व्यवस्था न एकात्मता है
भरी है मनों में अभी तक गुलामी
वही राग अंग्रेजियत का अभी तक
सुनाते बड़े लोग नामी -गिरामी
लुढ़कती मदिर जिन्दगी की लयों में
अभी मुक्ति-गायन स्वरों में न पहुँचा॥ खुला ॥

मिले जा रहे धूल में रत्न अनगिन
कदरदान अपनी कदर कर रहे हैं
मिला बाँटने जो अमिय था सभी को
प्रजा का गला घोंट घर भर रहे हैं
प्रजातंत्र की धार उतरी गगन से
मगर नीर जन-सागरों में न पहुँचा॥ खुला॥

विंधा जा रहा कर्ज से रोम तक भी
न थकते कभी भीख लेकर जगत से
बिछाये चले जाल जाते विधर्मी
मगर स्वप्नदर्शी नयन हैं न खुलते
बचा देश का धन लिया तस्करों से
मगर मालिकों के करों में न पहुँचा
खुला पिंजरा है मगर रक्त अब भी
थके पक्षियों के परों में न पहुँचा॥खुला॥

आज तक की पीढ़ी तो टाल गयी उत्तर देना, पर अब और अवसर नहीं बचे| अभी नहीं तो कभी नहीं| आज मानवता इस कगार पर है कि यदि माँ भारती गुरुपद पर विराजित ना हो, समर्थ ना बनें तो मानव का अस्तित्व ही खतरें में है| अपने लिए ना सही विश्व के मंगल के लिए जागना ही होगा | भारती की संतति को अपना कर्तव्य निभाना ही होगा|

बोलो हो तैयार???

अगस्त 7, 2011 Posted by | सामायिक टिपण्णी | , , , | टिप्पणी करे

   

%d bloggers like this: