उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

महागौरी उपासना : प्रबुद्ध वर्ग की वैचारिक क्रांति


वैचारिक आंदोलनः
हमने मधु-कैटभ को आधुनिक मिड़िया के साथ जोड़कर देखा था। उसी तारतम्य में शुम्भ-निशुम्भ को भी समझना होगा। शुम्भ का अर्थ होता है प्रकाशित या चमकदार और निशुम्भ का मतलब है मारक, प्राण हरनेवाला। जब दोनों को साथ में देखते हैं तो इस दानव जोड़ी का अर्थ होता है- विघातक लोग जो प्रसिद्धि पा गये है। वर्तमान समय में एक पद चल पड़ा है-आयकन। इसका अनुवाद तो कठीन है पर निकटतम् पर्याय होगा प्रतिक। हमारे माध्यम समाज में प्रतीकों को स्थापित करते है और फिर उनके माध्यम से विचारों को प्रसारित करते है। यह आवश्यक नहीं कि जिस बात के लिये ख्याति हो उसका प्रसार के विषय से कोई सम्बन्ध हो। जैसे सचिन तेण्डुलकर भले ही खिलाड़ी हो पर पेप्सी से सिमेण्ट तक सब बेचता है। वस्तु बेचने से अधिक खतरनाक हे विचार बेचना, वो भी केवल पैसे के खातिर। अरूंधति राय, विनायक सेन, तीस्ता सेतलवाड़, प्रशांत भूषण जैसे देशद्रोहियों के स्वयंम्भु प्रवक्ता शुम्भ-निशुम्भ की सेना ही है।
इस सेनाके नाम भी संकेत है। धुम्रलोचन- आँखों में धुआं झोकनेवाला, चण्ड- पाशविक बल ही है दिमाग नहीं, हिंसा का प्रवक्ता, मुण्ड -धड़ नहीं है केवल मुख। बिना आधार के बाते करनेवाला- दिग्विजयसिंह जैसा। रक्तबीज का तो नाम ही बताता है। इनका उत्पादन करने वाली संस्थायें। हमारे अनेक विश्वविद्यालय देश का पैसा इस्तेमाल कर उसके विरोध में अनुसंधान किये जा रहे है। गत दिनों दिल्ली में एक शोधार्थी के आवेदन में उसके अनुसंधान का विषय लिखा था- ‘‘बड़े पडौसी देश से छोटे देश को खतरे और उनके द्विपक्षीय सम्बन्ध – विशेष सन्दर्भ भारत-बांग्लादेश सम्बन्ध’’ अब आप बताये इस अध्ययन की भारत में क्या प्रासंगिकता है? ढ़ाका विश्वविद्यालय में इस बात पर शोध हो तो ठीक है पर दिल्ली के प्रतिष्ठित जे एन यु में ऐसा होता है तो उस मार्गदर्शक और शोधार्थी दोनों को रक्तबीज की संतान ही कहना होगा। ये संस्थान ऐसा कार्य कई वर्षों से कर रहे है। राष्ट्रहित में कार्य करनेवाले संगठनों को इसका उत्तर देना होगा।
महाअष्टमि को महागौरी की पूजा की जाती है। देवी का यह रूप भी बड़ा प्रतीकात्मक है। गौरी जब तप और श्रम से धुलधुसरित हो जाती है तो स्वयं शिवजी उनको गंगा जल से नहलाते है। जब स्वयं भगवान ही शुद्धि करें तो क्या कहना? भगवति गौरी का स्वरूप चमकने लगता है और वे महागौरी बन जाती है। उनके वस्त्र भी शुभ्र है और सारे आभुषण भी चांदी के। पूरा स्वरूप ही शुद्धि की प्रतिमूर्ति है। वाहन है सफेद बैल, शुद्धि के साथ श्रम व शक्ति का प्रतीक।
संगठन को भी महागौरी का ही पूजन करना है। प्रबुद्ध वर्ग के बुद्धि की शुद्धि करनी है। पर यह लगातार श्रम का काम है। श्रम व शक्ति के द्वारा वैचारिक परिवर्तन करना है। आज की महाअष्टमि की पूजा से वैचारिक क्रांति का सुत्रपात करना होगा। क्योंकि वर्तमान युग ज्ञानयुग है। ज्ञान की उपासना से ही धर्म की आदर्श व्यवस्था की स्थापना हो सकती है। अतः प्रबुद्ध वर्ग की वैचारिक क्रांति ही महागौरी की सच्ची उपासना है।

अक्टूबर 4, 2011 - Posted by | सामायिक टिपण्णी

अभी तक कोई टिप्पणी नहीं ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: