उत्तरापथ

तक्षशिला से मगध तक यात्रा एक संकल्प की . . .

मात्रा भेद


कल तक 
अनन्त के दर्शन से
थे जो विस्मित !
अब आत्मबल विहीन
क्यों हो गये
शंकित?

विस्मयादि बोध ‘!’
के स्थान पर
प्रश्नचिह्न ‘?’
लग गये।

जड़ का चेतन से
देखो कैसा
कार्य-कारण सम्बन्ध . . .
मात्र एक मात्रा के
बदलने से
सारे ‘गुण’
बदल गये !!!

जनवरी 6, 2012 Posted by | कविता | 1 टिप्पणी

   

%d bloggers like this: